• खालसा पंथ की स्थापना
    खालसा पंथ की स्थापनाजसबीर कौर..1699, बैसाखी के दिन प्रात: आनंदपुर साहिब की पवित्र धरती पर दीवान सजा हुआ है। श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी का पैगाम सुनने के लिये पंजाब ही नहीं...
  • अद्वैतवाद और वेद
    अद्वैतवाद और वेद(डॉ. विवेक आर्य) स्वामी दयानंद जी महाराज ने सत्यार्थ प्रकाश के 11 वें समुल्लास में अद्वैतवाद विचारधारा पर अपना दृष्टीकोण स्पष्ट किया हैं। अद्वैतवाद वि...
  • मर्यादाओं का उल्लेख करती
    मर्यादाओं का उल्लेख करती 'रामनवमी'सुरेश आर्यामयार्दा पुरूषोत्तम श्रीराम का जन्मदिन है रामनवमी। यह चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि है। फलित ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नवमी रिक्ता तिथि मानी...
  • राम सनातन धर्म की पहचान
    राम सनातन धर्म की पहचानदर्शनदीप कोहलीराम सिर्फ एक नाम नहीं हैं। राम हिन्दुस्तान की सांस्कृतिक विरासत हैं राम हिन्दुओं की एकता और अखंडता का प्रतीक हैं। राम सनातन धर्म की पहचा...
  • चैत्र नवरात्र का वैज्ञानिक आधार
    चैत्र नवरात्र का वैज्ञानिक आधारडीएस अरगनवरात्र शब्द से 'नव अहोरात्रों (विशेष रात्रियां) का बोध' होता है। इस समय शक्ति के नव रूपों की उपासना की जाती है क्योंकि 'रात्रि' शब्द सिद्धि क...
  • नवरात्र में है प्रतिपदा की हानि, 28 को करें कलश स्थापना
    नवरात्र में है प्रतिपदा की हानि, 28 को करें कलश स्थापनानयी दिल्ली : नवरात्र पर कलश स्थापना को लेकर असमंजस की स्थिति बन गई है। निर्णय सिंधु के अनुसार प्रतिपदा में ही कलश स्थापना करना उत्तम होगा। निर्णय सिंध...
  • 29 मार्च से शुरू होगा वासंतिक नवरात्र
    29 मार्च से शुरू होगा वासंतिक नवरात्रधर्मेन्द्र पाठक चतरा: वासंतिक नवरात्र आगामी 29 मार्च को कलश स्थापना के साथ हो रहा है। वैसे तो प्रतिपदा तिथि की शुरुआत आगामी 28 मार्च (मंगलवार) को ही प...
  • श्रद्धा और भक्ति
    श्रद्धा और भक्तिआर श्रीवास्तवश्रद्धा और भक्ति में बड़ा मामूली अंतर है। कभी-कभी तो यह लगता है कि दोनों आपस में दूध-पानी की तरह इस प्रकार घुल गए हैं कि उन्हें अलग से पह...
  • आध्यात्मिक रहस्य
    आध्यात्मिक रहस्यराजन सिंहमनुष्य जैसे- जैसे ध्यान के पथ पर आगे बढ़ते हैं उनकी संवेदनाएं सूक्ष्म हो जाती है। इस संवेदनात्मक सूक्ष्मता के साथ ही उनमें संवेगात्मक स्थिरता...
  • भगवान भोलेनाथ के दो नहीं, 6 पुत्र थे
    भगवान भोलेनाथ के दो नहीं, 6 पुत्र थेशिवपुराण में उल्लेखित है कि भगवान शिव की अर्धांगिनी माता सती थीं, लेकिन जब माता सती का शरीर पंचतत्वों में विलीन हो गया तब माता सती ने ही राजा हिमालय औ...
  • भगवान भोलेनाथ के दो नहीं, 6 पुत्र थे
    भगवान भोलेनाथ के दो नहीं, 6 पुत्र थेशिवपुराण में उल्लेखित है कि भगवान शिव की अर्धांगिनी माता सती थीं, लेकिन जब माता सती का शरीर पंचतत्वों में विलीन हो गया तब माता सती ने ही राजा हिमालय औ...
  • शिव का अर्थ है श्रेष्ठ या उदार : श्री श्री रविशंकर
    शिव का अर्थ है श्रेष्ठ या उदार : श्री श्री रविशंकरसंवाददातारांची : श्री श्री रविशंकर जी के अनुसार शिव का अर्थ सबसे शुद्धतम संत । शिव का अर्थ श्रेष्ठ या उदार होता है। रात्रि का अर्थ वह जो आपको अपनी गोद...
Share it